PPF: क्या आपको पता है पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) से कैसा पैसा बना सकते है और इश्के फायदे यहाँ पढ़े

पीपीएफ या पब्लिक प्रोविडेंट फंड भारत सरकार द्वारा दी जाने वाली एक बचत योजना है। जिसे 1968 में वित्त मंत्रालय के नेशनल सेविंग इंस्टिट्यूट द्वारा पेश किया गया था | पीपीफ खाते पर ब्याज भारत सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है और इसे हर तिमाही निर्धारित किया जाता है। यह section 80C के तहत कर-मुक्त भी है। वर्तमान में 1 अप्रैल से 30 जून 2020 (Q1 FY 2020-21) के लिए पीपीएफ ब्याज दर 7.1% तय की गई है। जनवरी – मार्च २०२० (Q4 FY 2019-20) के लिए पीपीफ का ब्याज दर 7.9% था।

पीपीएफ खाते की मुख्य विशेषताएं :-
पीपीएफ खाते में मूलधन और ब्याज की गारंटी सरकार द्वारा दी जाती है।
प्रति वर्ष 1.5 लाख रुपये तक खाते में योगदान कर मुक्त है। पीपीएफ खाते पर ब्याज भी कर-मुक्त है।
पीपीएफ खाते के लिए ब्याज दर सरकार द्वारा हर तिमाही घोषित की जाती है। पीपीएफ रिटर्न

पब्लिक प्रोविडेंट फंड

पीपीएफ या पब्लिक प्रोविडेंट फंड भारत सरकार द्वारा दी जाने वाली एक बचत योजना है। जिसे 1968 में वित्त मंत्रालय के नेशनल सेविंग इंस्टिट्यूट द्वारा पेश किया गया था | पीपीफ खाते पर ब्याज भारत सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है और इसे हर तिमाही निर्धारित किया जाता है। यह section 80C के तहत कर-मुक्त भी है। वर्तमान में 1 अप्रैल से 30 जून 2020 (Q1 FY 2020-21) के लिए पीपीएफ ब्याज दर 7.1% तय की गई है। जनवरी – मार्च २०२० (Q4 FY 2019-20) के लिए पीपीफ का ब्याज दर 7.9% था।

यह भी पढ़े :- क्या आप जानते है मृदा स्वस्थ्य योजना के बारे में और इश्के क्या क्या लाभ है

पीपीएफ खाते की मुख्य विशेषताएं :-
पीपीएफ खाते में मूलधन और ब्याज की गारंटी सरकार द्वारा दी जाती है।
प्रति वर्ष 1.5 लाख रुपये तक खाते में योगदान कर मुक्त है। पीपीएफ खाते पर ब्याज भी कर-मुक्त है।
पीपीएफ खाते के लिए ब्याज दर सरकार द्वारा हर तिमाही घोषित की जाती है। पीपीएफ रिटर्न

उस अवधि में कई बैंकों की एफडी दरों से अधिक है।
पीपीएफ खाता कोई भी भारतीय नागरिक खुलवा सकता है।
पीपीएफ खाता खोलने के लिए अधिकतम उम्र का कोई प्रतिबंध नहीं है।
पोस्ट ऑफिस और सभी सरकारी व प्रमुख बैंको की शाखाओ में पीपीएफ खता खुलवाया जा सकता है।
सरकारी बचत योजना होने से निवेश सुरक्षा की पूरी गारंटी भारत सरकार के द्वारा दी जाती है।
अभिभावक के संरक्षण में बच्चों का खाता भी खुलवाया जा सकता है। 10 साल से बड़ा बच्चा खुद भी स्वतंत्र रूप से खुलवा सकता है।
यह खाता कम से कम ₹500/- रुपए शुरुआती जमा के साथ खुल सकता है। तथा हर साल इस खाते में कम से कम ₹500/- रुपए जमा करने की ही अनिवार्यता है अन्यथा ₹50/- प्रति वर्ष के हिसाब से पेनल्टी लग सकती है।
प्रत्येक वित्तीय वर्ष में अधिकतम ₹1.5 लाख रुपए तक जमा किया जा सकता है। और हर साल अधिकतम 12 बार तक पैसा जमा करने की छूट है जो अपनी सुविधानुसार कभी भी कम या ज्यादा जमा कर सकते हैं।
इस खाते में NEFT/RTGS और नेट बैंकिंग से भी पैसा जमा करने की सुविधा है।
पीपीएफ खाते की जमा राशि, ब्याज और निकासी, तीनों पर टैक्स की छूट है| 5 साल बाद आंशिक निकासी की रकम भी पूरी तरह टैक्स फ्री है।
पीपीएफ खाते में जमा राशि पर अच्छी ब्याज दर मिलती है |पोस्ट ऑफिस और बैंकों में हर जगह एक समान ब्याजदर दिया जाता है।
पीपीएफ खाते के तीसरे साल से जमा राशि के बदले लोन लेने की सुविधा भी उपलब्ध है।खाते खुलने के 5 साल बाद इमरजेंसी में खाता बंद करने की भी सुविधा है।
पीपीएफ खाते के15 साल पूरे होने के बाद ब्याज सहित पूरी राशि दी जाती है। खाते के मेच्योरिटी के बाद भी इसकी अवधि अगले पांच-पांच साल बढ़वा सकते है।
पीपीएफ खाते में नोमिनी बनाने की भी सुविधा है।
पीपीएफ खाते को आवश्यकता के अनुसार आप अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक शाखा में कभी भी ट्रांसफर कर सकते है।

यह भी पढ़े :- PM Kisaan मानधन योजना ऑनलाइन आवेदन करके लाभ कैसे उठाये । PMKMY

पीपीएफ के लिए पात्रता :-

कोई भी व्यक्ति जो भारत का निवासी है, वह PPF खाता खोल सकता है। पीपीएफ खाते माता-पिता द्वारा अपने नाबालिग बच्चों के लिए भी खोले जा सकते हैं। एनआरआई पीपीएफ खाते नहीं खोल सकते हैं। हालांकि, एक निवासी भारतीय जो पीपीएफ खाता खोलने के बाद एनआरआई बन गया है, वह खाता परिपक्वता तक जारी रख सकता है। संयुक्त खाते और कई खाते खोलने की अनुमति नहीं है।

पीपीएफ खाते पर ब्याज :-

पीपीएफ एक निश्चित आय निवेश है। पीपीएफ खाते पर ब्याज दर हर तिमाही केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचित की जाती है। पीपीएफ पर ब्याज की गणना महीने के पांचवें दिन की समाप्ति और हर महीने के आखिरी दिन के बीच न्यूनतम शेष राशि पर की जाती है। वर्तमान में पीपीएफ खाते का ब्याज दर 7.9% (July19-Sept19 के लिए ) है ।

पीपीएफ खाते की अवधि :-

पीपीएफ खाता, खाता खुलने के उस वित्तीय वर्ष से अगले 15 साल की समाप्ति के बाद परिपक्व होता है जिस वर्ष खाता खोला गया था। उदाहरण के लिए, अगर PPF खाता 1 फरवरी 2005 को खोला गया था, तो यह 31 मार्च 2020 को यानी 31 मार्च 2005 से 15 साल तक परिपक्व होगा। परिपक्वता पर, आप PPF खाते को 5 साल के ब्लॉक में अनिश्चित काल के लिए बढ़ा सकते हैं।

पीपीएफ खाते के लिए नामांकन नियम:-

 

पीपीएफ खाते में नामांकन एक या अधिक व्यक्तियों के पक्ष में किया जा सकता है। इसमें प्रत्येक नामांकित व्यक्ति के प्रतिशत शेयर को भी निर्दिष्ट करने की आवश्यकता होती है। कोई भी, यानी माता-पिता, पति या पत्नी, रिश्तेदार, बच्चे, दोस्त आदि नामांकित हो सकते हैं। पीपीएफ खाते में नामांकित व्यक्ति को जोड़ने के लिए Form E का उपयोग किया जाता है।

पीपीएफ खाते के कार्यकाल के दौरान किसी भी समय नामांकन किया जा सकता है। नामांकन

नामांकन में परिवर्तन, रद्द या परिवर्तन Form F के माध्यम से किया जा सकता है।

पीपीएफ खाते में टैक्स की छूट:-

पीपीएफ खाते में योगदान (प्रति वर्ष 1.5 लाख रुपये तक) आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत exempted है , अर्जित ब्याज पर छूट दी जाती है और परिपक्वता आय को भी कर से छूट दी जाती है। पीपीएफ खाते पर अर्जित ब्याज का आयकर रिटर्न पर उल्लेख करना होता है।

यह भी पढ़े :- PM Kisaan: योजना की क़िस्त आने वाली है विस्तार से जाने कैसे लाभ उठाना है

अटैचमेंट आर्डर से सुरक्षा:-

पीपीएफ खाता किसी भी आदेश या सरकारी बचत बैंक अधिनियम, 1873 के तहत किसी भी ऋण या देयता के लिए किसी भी अदालत के निर्णय के तहत संलग्न नहीं किया जा सकता। यह आयकर विभाग सहित सभी लेनदारों के खिलाफ खाता धारकों की सुरक्षा करता है।

पीपीएफ खाते पर लोन :-

पीपीएफ खाते पर लोन प्राप्त करने की सुविधा खाता खोलने की तारीख से 6 वें वित्तीय वर्ष तक 3 वें वित्तीय वर्ष से उपलब्ध है। दूसरे शब्दों में, वित्तीय वर्ष के अंत से एक वर्ष की समाप्ति के बाद किसी भी समय लोन प्राप्त किया जा सकता है जिसमें खाता खोला गया था, लेकिन वित्तीय वर्ष के अंत से पांच वर्ष की समाप्ति से पहले जिसमें खाता खोला गया था ।

उदाहरण के लिए, यदि PPF खाता 1 फरवरी , 2014 (वित्तीय वर्ष 2013-14) में खोला जाता है, तो वित्तीय वर्ष का अंत जिसमें खाता खोला गया था, 31 मार्च, 2014 है। तब लोन 1 अप्रैल, 2015 से लिया जा सकता है और लोन खाता खोलने के वित्तीय वर्ष के अंत से अगले पांच साल यानि 31 मार्च, 2019 (वित्त वर्ष 2018-19) तक प्राप्त किया जा सकता है।

इस तरह के लोन की अधिकतम अवधि ३ साल है| पीपीएफ खातों पर लोन की अधिकतम राशि पिछले वित्त वर्ष के अंत में शेष राशि का 25% है, जिस वर्ष लोन के लिए आवेदन किया गया था। उदाहरण के लिए, यदि निवेशक अप्रैल 2014 में लोन लेना चाहता है, तो अधिकतम लोन जो प्राप्त किया जा सकता है, वह 31 मार्च, 2013 को शेष राशि का 25% होगा| पीपीएफ खाते के बदले लोन लेने के लिए Form D जमा करना आवश्यक होता है।

पीपीएफ खाते के बदले लिए गए लोन पर देय ब्याज दर पीपीएफ खाते पर तत्कालीन ब्याज दर से 2% अधिक लगता है।

निष्क्रिय खाते को पुनः चालू करने के लिए:-

यदि पीपीएफ खाते में प्रति वर्ष ₹500/- रुपये का न्यूनतम योगदान नहीं किया जाता है, तो खाता निष्क्रिय हो जाता है।

खाते को पुन: चालू करने के लिए एक आवेदन पोस्ट ऑफिस या बैंक शाखा में जमा करना होता है।

प्रत्येक वर्ष खाते के निष्क्रिय होने पर ₹50/- का जुर्माना देना पड़ता है। और खाता निष्क्रिय होने के वित्तीय वर्ष से अगले सभी वर्षों के लिए ₹500/- की न्यूनतम राशि का भुगतान करना होता है।

पीपीएफ खाते से आंशिक निकासी:-

जिस वर्ष खाता खोला गया है, उसके 5 वर्ष की समाप्ति के बाद आंशिक निकासी की जा सकती है। उदाहरण के लिए, यदि 1 जनवरी, 2014 को खाता खोला गया था, तो वित्तीय वर्ष 2021-22 से निकासी की जा सकती है। प्रति वित्तीय वर्ष में केवल एक आंशिक निकासी की अनुमति है। प्रति वित्तीय वर्ष में निकाली जा सकने वाली अधिकतम राशि चालू वर्ष से पहले, वित्तीय वर्ष के अंत तक खाते की शेष राशि का 50%, या चालू वर्ष से पहले, चौथे वित्तीय वर्ष के अंत तक खाते का शेष राशि का 50% है | पीपीएफ खाते से आंशिक राशि निकालने के लिए Form C जमा किया जाना आवश्यक होता है।

पीपीएफ खाते को समयपूर्व बंद करने की स्थिति में:-

खाता खोलने के 5 वर्षों के भीतर पीपीएफ खाते के प्री-मेच्योर क्लोजर करने की अनुमति नहीं है। उसके बाद इसे केवल विशिष्ट आधारों पर ही बंद किया जा सकता है, जैसे खाताधारक, पति या पत्नी, आश्रित बच्चों या माता-पिता की गंभीर बीमारीओं में, जिसमे जान का खतरा हो |

पर इन आधारों को साबित करने के लिए आपके पास जरुरी चिकत्सीय डॉक्यूमेंट होना चाहिए।

खाता धारक की मृत्यु होने पर:-

पीपीएफ खाता धारक की मृत्यु के मामले में, पीपीएफ खाते में नामांकित / कानूनी उत्तराधिकारी व्यक्ति द्वारा खाताधारक के मृत्यु प्रमाण पत्र दे कर पीपीएफ खाता के आय पर दावा किया जा सकता है। दावेदार को इसके साथ फॉर्म जी तथा एक आवेदन पत्र प्रस्तुत करना होता है , जिसमें खाता संख्या, नामांकित विवरण आदि जैसे दावे से संबंधित जानकारी हो।

पीपीएफ खाते की Maturity:-

पीपीएफ खाता, खाता खुलने वाले वित्तीय वर्ष के अंत से अगले 15 वर्ष की अवधि के बाद Mature हो जाता है maturity के समय, खाताधारक के पास निम्न विकल्प होते हैं:-

परिपक्वता राशि की निकासी –

खाताधारक पीपीएफ राशि के साथ-साथ अर्जित ब्याज को वापस ले सकता है। संपूर्ण परिपक्वता आय कर से मुक्त है।

योगदान के साथ पीपीएफ का विस्तार-

यह भी पढ़े :- PM Kisaan मानधन योजना ऑनलाइन आवेदन करके लाभ कैसे उठाये । PMKMY

एक ग्राहक एक बार में 5 साल के ब्लॉक में पीपीएफ खाते को अनिश्चित काल तक बढ़ा सकता है। खाताधारक को Form H जमा करके आगे के योगदान के साथ खाते का विस्तार करने के लिए आवेदन देना होगा। एक बार जब खाता योगदान के साथ विस्तारित हो जाता है, तो खाते के विस्तार की तारीख तक शेष राशि का अधिकतम 60% निकाला जा सकता है। यह राशि एक बार में निकाली जा सकती है या फिर कई वर्षों में निकाली जा सकती है। एक वर्ष में अधिकतम एक बार निकासी की जा सकती है।

पीपीफ खाते में उपयोग होने वाले फॉर्म्स:-

  • FORMS PURPOSE
  • PPF FORM A Account Opening
  • PPF FORM B Contribution
  • PPF FORM C Partial Withdrawal
  • PPF FORM D Loan
  • PPF FORM E Nomination
  • PPF FORM F Change of Nomination
  • PPF FORM G Claim
  • PPF FORM H Extension

RAHAT PACKAGE (राहत पैकेज), किसान, गरीब परिवार, महिला को भारत बंदी में मिलेगा फ्री राशन और साथ बैंक खाते में पैसे भी।

लॉकडाउन की स्थिति में सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला वर्ग गरीब परिवार, महिला ,किसान और निर्माण श्रमिकों का ही है इन लोगों के लिए सरकार ने PM Gareeb Kalyan Yojana के तहत राहत पैकेज लॉन्च (Rahat package) कर दिया है जिसके तहत महिलाओं, गरीब लोगों, किसानों और निर्माण श्रमिकों को सरकार बैंक खाते में पैसे तो भेजेगी ही साथ ही इन्हें फ्री में राशन और एलपीजी सिलेंडर भी दिए जाएंगे ( किसान सम्मान निधि)

ARTHIK PACKAGE , AATMA NIRBHAR BHARAT YOJANA ; आर्थिक पैकेज , आत्मनिर्भर भारत योजना

जैसा आप सभी जानते हैं कल हमारे देश के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी ने शाम 8:00 बजे पूरे देश को संबोधित करते हुए आर्थिक पैकेज के बारे में जानकारी दी इस आर्थिक पैकेज की बजट भारत में अब तक पेश की गई किसी भी पैकेज से सबसे बड़ी है यह रकम इतनी बड़ी है जिसे आप अंकों में गिनती नहीं पाओगे

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 20 लाख करोड़ रुपए की आर्थिक पैकेज की घोषणा कल शाम (12/05/2020) 8:00 बजे की गई आर्थिक पैकेज का मुख्य उद्देश्य देश की ऐसी जनसंख्या को लाभ पहुंचाना है जो कोरोनावायरस लॉक डाउन की वजह से बहुत हानि में हैं आर्थिक पैकेज से देश के श्रमिकों, किसान मजदूर छोटे कारोबारी और ऐसे लोग जिनका मासिक वेतन ₹15000 से कम है को ज्यादा लाभ दिया गया है साथ ही आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत MSME की परिभाषा को भी बदल दी गई है

आत्मनिर्भर भारत योजना – AATM NIRBHAR BHARAT YOJANA , ARTHIK PACKAGE YOJANA

आत्मनिर्भर भारत यह नाम ही बता रहा है कि भारत के नागरिकों अर्थव्यवस्था को आत्मनिर्भर बनाना आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत देश के 130 करोड़ भारतवासियों को आत्मनिर्भर बनाने की नींव रखी गई है देश का हर नागरिक इस आपदा की घड़ी में कोविड-19 जैसी महामारी से लड़ रहा है और अपना पूरा समर्थन भारत की अर्थव्यवस्था और अपने जीवन को बचाने में कर रहा है। श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा देश को आत्मनिर्भर बनाने की बात बहुत पहले से कहीं जा रही है इसी में सरकार के द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान भी शुरू कर दी गई है जो प्रधानमंत्री आर्थिक राहत पैकेज के सभी सेक्टरों को ऊपर की ओर लेकर जाएगा

किन को मिलेगा राहत पैकेज का लाभ ?

  1. ➡ गरीब परिवार ( जो गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर कर रहे हैं और उनके पास एक राशन कार्ड है )
  2. मनरेगा के तहत रजिस्टर्ड मजदूर
  3. ➡ जनधन योजना के तहत खाताधारक
  4. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रजिस्टर्ड महिलाओं को फ्री एलपीजी 3 महीने तक
  5.  विधवा, बुजुर्ग, विकलांग को एक ₹1000
  6. पेंशन धारकों को 3 महीने का अग्रिम पेंशन
  7. निर्माण श्रमिक
  8. ➡ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ साथ ही प्रधानमंत्री किसान क्रेडिट कार्ड योजना का भी लाभ ।

PM Narendra Modi 3

लॉक डाउन का असर ।

जैसा की आप सभी को पता है पूरी दुनिया और हमारा भारत देश कोरोनावायरस के कहर से जूझ रहा है और बहुत सारे ऐसे देश हैं जिनमें अभी लॉक डाउन किया गया है भारत भी उनमें से ही एक है ।

अगर कोई देश लॉक डाउन (कर्फ्यू लगाया ) किया जाता है , तो देश में केवल जरूरत की चीजें ही जैसे कि साक और सब्जी ,किराने की दुकान और मेडिकल स्टोर, अस्पताल और पुलिस स्टेशन ही खुले रहते हैं

ऐसे में सरकार यह भलीभांति जानती है कि वैसे व्यक्ति जो रोज काम करके 200 से ₹500 कमाते थे और अपना घर खर्च चलाते थे उनका क्या होगा ?

इसके ऊपर विचार करते हुए हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी ने और हमारे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा देश में राहत पैकेज PM Gareeb Kalyan Yojana की घोषणा कर दी गई है । राहत पैकेज के तहत सरकार 1.70 लाख करोड़ रुपए देश के 80 करोड़ जनसंख्या के ऊपर खर्च करेगी

इनमें शामिल है गरीब परिवार , मजदूर वर्ग के लोग, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का लाभ लेने वाली, जनधन योजना के तहत खोले गए खाते, देश के सभी किसान

इनको सरकार के द्वारा लांच किए गए राहत पैकेज के तहत बहुत सारे लाभ दिए जाएंगे जिसमें शामिल है फ्री राशन देना खाते में पैसे पहुंचाना और एलपीजी सिलेंडर 3 महीने तक उपलब्ध कराना

🔥🔥RAHAT PACKAGE IN HINDI HIGHLIGHTS 🔥🔥

🔥 SCHEME NAME 

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना , PM Gareeb Kalyan Yojana

🔥 INTRODUCE BY

Narendra Modi

🔥 LAUNCHED YEAR

2016

🔥 PACKAGE NAME

RAHAT PACKAGE 

🔥 BUDGET

1.70 LAKH CRORE

🔥 लाभार्थी 

गरीब परिवार, महिला ,किसान और निर्माण श्रमिक

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना

कोरोनावायरस लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए देश की सरकार ने मोदी के नेतृत्व में देश के 80 करोड़ लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए दुनिया की सबसे बड़ी खाद्य सुरक्षा योजना को मंजूरी दे दी इस मंजूरी के तहत देश के सभी राशन कार्ड धारकों को अगले 3 माह तक मौजूदा राशन के जगह पर दोगुना राशन दिए जाने का प्रावधान किया गया है । यह अनाज केंद्र सरकार के द्वारा लाभार्थियों को बिल्कुल मुफ्त में दिया जाएगा । प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत देशवासियों को प्रोटीन की मात्रा की सुनिश्चित करने के लिए 1 किलो दाल भी हर महीने दिया जाएगा स्रोतों के मुताबिक गेहूं ₹2 किलो तथा चावल ₹3 किलो के हिसाब से इन लोगों को दिया जाएगा ।

गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत मिलने वाली धनराशि (TRANSFER AMOUNT UNDER PM GARIB KALYAN YOJANA )

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिली जानकारी से यह पता चला है कि जल्दी सरकार पीएमजीकेवाई योजना के अंतर्गत लाभार्थी के खाते में सीमित समय के भीतर धनराशि वितरित करेगी अभी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत डिजिटल पेमेंट के माध्यम से जन धन योजना, उज्जवला योजना ,पीएम किसान योजना के अंतर्गत भुगतान की प्रक्रिया शुरू है । केंद्र सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत 28265 करोड़ रुपए की धनराशि लाभार्थियों को प्रदान की जाने की व्यवस्था की गई है । प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत उज्जवला योजना के करीब 7.30 करोड़ लाभार्थियों के खाते में 5606 करोड़ रूपया स्थानांतरित किए गए हैं ।

RAHAT PACKAGE

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना नया अपडेट

देश के जो लोग गुरु नानक डाउन की वजह से मुश्किलों का सामना कर रहे हैं जिसकी वजह से केंद्र सरकार देश के गरीबों के बैंक खाते में आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए पैसे का भुगतान कर रहे हैं , वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 22 अप्रैल गरीब कल्याण योजना के तहत देश के 33 करोड़ से अधिक गरीब लोगों को 31235 करोड़ रुपए से भी अधिक की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई है  साथ ही प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना ( Gareeb Kalyan ) के तहत राशन वितरण का काम भी शुरू किया जा चुका है और लोगों को राशन मिलने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है ।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की मुख्य विशेषताएं

योजना का लाभ

राशि / लाभ

राशन कार्डधारक (80 करोड़ लोग)

अतिरिक्त रूप से 5 किलो राशन मुफ्त

कोरोना योद्धा (डॉक्टर, नर्स, स्टाफ)

50 लाख का बीमा

किसान (पीएम किसान योजना में पंजीकृत)

2000 / – (अप्रैल प्रथम सप्ताह में)

जन धन खाताधारक (महिला)

500 / – अगले तीन महीने

विधुर, गरीब नागरिक, विकलांग, वरिष्ठ नागरिक

1000 / – (अगले तीन महीने के लिए)

उज्जवला योजना

अगले तीन महीने तक सिलेंडर फ्री

स्वयं सहायता समूहों

10 लाख अतिरिक्त ऋण मिलेगा

निर्माण मजदूर

उनके लिए 31000 Cr Fund का उपयोग किया जाएगा

ईपीएफ

अगले तीन महीने के लिए सरकार द्वारा 24% (12% + 12%) का भुगतान किया जाएगा

राहत पैकेज की शुरुआत प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत की गई है ।

केंद्र सरकार ने कोरोनावायरस की वजह से देश भर में लॉक डाउन लगा रखा है ऐसे में सरकार यह भी भली-भांति जानती है कि इस लॉक डाउन से सबसे ज्यादा प्रभावित देश के चुनिंदा वर्ग ही होंगे जो हैं गरीब किसान ,गरीब महिला, सीनियर सिटीजन और ऐसे व्यक्ति जो गरीबी रेखा से नीचे अपना गुजरबसर कर रहे हैं

इसको ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार के द्वारा PM Gareeb Kalyan Yojana के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपए का एक पैकेज (Rahat package) की घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया गया ।

कोरोनावायरस से लड़ रहे डॉक्टर और नर्सों को भी दिया जाएगा लाभ ।

सरकार ने कोरोनावायरस के संक्रमण से जंग में लगे डॉक्टरों और नर्सों के लिए भी राहत पैकेज (Rahat package) में जगह रखी है सरकार के मुताबिक इन डॉक्टरों और नर्सों को 50 लाख रुपए के इंसुरेंस देने का वादा किया गया है ।

कोरोना वायरस की जंग में अगर किसी डॉक्टर या नर्स को जान की हानि होती है तो उन्हें (परिवार को) 50 लाख रुपए का इंश्योरेंस कवरेज दिया जाएगा ।

सरकार ने राहत पैकेज में गरीबों को मुफ्त अन्न और राशन देने का भी वादा किया ।

PM Gareeb Kalyan Yojana (Rahat package) की घोषणा के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा यह भी कहा गया कि इस पैकेज के तहत गरीब को अन्न और धन दोनों दिया जाएगा

उन्होंने कहा कि बीपीएल के तहत आने वाले हर व्यक्ति को 5 किलो अतिरिक्त चावल या गेहूं फ्री अगले 3 महीने तक हर परिवार के हिसाब से दिया जाएगा साथ ही उन्होंने 1 किलो अतिरिक्त दाल अगले 3 महीने तक देने का भी वादा किया है

5 किलो अतिरिक्त चावल या गेहूं का फायदा देश के करीब 80 करोड़ जनसंख्या को दिया जाएगा

मनरेगा के मजदूरों को भी मिलेगा लाभ ।

सरकार के द्वारा इस मुश्किल घड़ी में मनरेगा के मजदूरों को भी ध्यान में रखा गया है और कहा गया है कि जिन मनरेगा के मजदूरों का पेमेंट कब तक रुका हुआ है उनका पेमेंट सरकार जल्द से जल्द करेगी ।

साथ ही मनरेगा के मजदूरों को सरकार राशन भी सस्ते और किसी किसी राज्य में फ्री में उपलब्ध कराएगी

इसी प्रकार से मनरेगा के तहत मिलने वाले मजदूरी को ₹82 से बढ़ाकर ₹202 कर दिया गया है ,इस हिसाब से देखा जाए तो देश के 5 करोड़ परिवारों को इसका फायदा मिलेगा और प्रति मनरेगा वर्कर ₹2000 की अतिरिक्त आमदनी होगी ।

किसानों को भी मिलेगा लाभ

इस मुश्किल की घड़ी को देखते हुए किसानों को भी सरकार ने भूला नहीं है किसान सम्मान निधि के तहत जिन किसानों की किस्त की रकम रुकी हुई है उनका पैसा जल्द से जल्द सरकार उनके खाते में भेज देगी । किसान सम्मान निधि

वित्त मंत्री ने कहा कि अप्रैल के पहले सप्ताह में ही किसान सम्मान निधि के तहत किसानों को ₹2000 की पहली किस्त मिल जाएगी 8.69 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का यह पैसा मिल जाएगा ।

जिन किसानों को सुधार या किसी प्रकार की समस्या है तो वह इसके संबंधित समाधान ऑनलाइन भी प्राप्त कर सकते हैं ।

जी हां सरकार यह नहीं चाहती है कि इस मुश्किल के घड़ी में कोई भी ऐसा किसान छूट जाए जो पैसे का हकदार है ।

सरकार के द्वारा कृषि विभाग कल्याण स्तर पर कुछ हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं जिस पर किसान बैंक अकाउंट पासबुक का फोटो और आधार कार्ड का फोटो भेज अपने किसान सम्मान निधि में सुधार को करवा सकता है ।

और जब किसान का बैंक अकाउंट डिटेल सुधर जाए तो वह पीएम किसान के तहत मिलने वाला किस्त भी आसानी से प्राप्त कर सकता है

क्या आप जानते है मृदा स्वस्थ्य योजना के बारे में और इश्के क्या क्या लाभ है

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना, मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के लाभ

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना भारत सरकार द्वारा 2015 में ही जारी की गई थी। मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत सरकार का मुख्य उद्देश्य किसानों को एक कार्ड प्रदान करना था जिसके तहत किसान अपनी मिट्टी की गुणवत्ता की जाँच करवा सकें और अच्छी फसल प्राप्त कर सकें। आज के इस आर्टिकल में आपको मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना से जुड़ी पूरी जानकारी मिलेगी। (मृदा स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन), मृदा स्वास्थ्य के लाभ। मृदा स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन। स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड।

मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड योजना

 

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना।

हमारे देश के कृषक वर्ग के उत्थान और उनकी फसल में सुधार के लिए सरकार द्वारा मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना शुरू की गई थी।

के नीचे मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना देश के किसान का उद्देश्य अपनी मिट्टी की उर्वरता का एक उचित अनुमान लगाना है, और उस उर्वरक के आधार पर सही फसल की खेती करना सीखना है। मृदा स्वास्थ्य के लाभ।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के उद्देश्य

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि इस योजना को शुरू करने के पीछे कुछ मकसद हैं जो इस प्रकार हैं।

  • ⏩ के तहत मृदा स्वास्थ्य कार्ड , किसान की मिट्टी के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध है।
  • Of की मदद से मृदा स्वास्थ्य कार्ड , किसानों को आसानी से पता करने में सक्षम हैं कि उनकी भूमि की उर्वरता क्या है। उन्हें किस फसल पर खेती करनी है और उस फसल पर उन्हें कितनी मात्रा में खाद का उपयोग करना है?
  • And खेती के लिए ये जानकारी होना आवश्यक है और अगर यह जानकारी किसानों के पास सही मात्रा में उपलब्ध है तो उनकी फसलें काफी समृद्ध हो सकती हैं। मृदा स्वास्थ्य के लाभ।
  • ⏩ के तहत मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना , किसानों को उर्वरकों का उपयोग करके उत्पादकता में सुधार करने के लिए सिखाया जाता है, जिससे उनकी फसल बहुत अच्छी होती है और खेती में बहुत अधिक पैदावार होती है।
मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के लाभ

हालाँकि मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के कई लाभ हैं, लेकिन इनमें से कुछ प्रमुख लाभ नीचे लिखे गए हैं।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना कैसे काम करती है?

योजना निम्नलिखित तरीके से काम करती है।

, सबसे पहले, किसान को परीक्षण के लिए अपने खेत की मिट्टी देनी होगी, इसके लिए किसान को ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा, जिसकी प्रक्रिया इस पोस्ट में आगे बताई जाएगी। मृदा स्वास्थ्य के लाभ।

Mer जब किसान अपनी मिट्टी देता है, तो उसे प्रयोगशाला द्वारा प्रशिक्षित किया जाता है।

, प्रयोगशाला में, किसान के मिट्टी के नमूनों की विशेषज्ञों द्वारा जांच की जाती है और यह पता लगाया जाता है कि मिट्टी में क्या अधिक है और क्या कम है।

⏩ जब प्रयोगशाला द्वारा विशेषज्ञों द्वारा मिट्टी को प्रशिक्षित किया जाता है और इसकी रिपोर्ट तैयार की जाती है, तो इसकी रिपोर्ट ऑनलाइन पोर्टल पर अपलोड की जाती है, जिसे किसान आसानी से ऑनलाइन देख सकता है।

Ing रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड करने के साथ-साथ यह रिपोर्ट सॉइल हेल्थ कार्ड में भी अपलोड की जाती है और किसान के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भी जानकारी दी जाती है।

⏩ जब यह पूरी प्रक्रिया पूरी हो जाती है और मिट्टी की रिपोर्ट पूरी तरह से तैयार हो जाती है, तो इस रिपोर्ट को सॉयल हेल्थ कार्ड में बदल दिया जाता है और किसानों को भेज दिया जाता है। साथ ही किसान मृदा स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते हैं। (मृदा स्वास्थ्य कार्ड डाउनलोड ऑनलाइन)

यह भी पढ़े :- वैक्सीन विकास की समीक्षा करने के लिए हैदराबाद के भारत बायोटेक सुविधा में पीएम मोदी

मृदा स्वास्थ्य कार्ड मृदा परीक्षण पंजीकरण / मृदा स्वास्थ्य कार्ड पंजीकरण / मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए ऑनलाइन पंजीकरण।

यदि कोई किसान मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त करना चाहता है, तो इसके लिए उसे पहले अपनी मिट्टी का नमूना देना होगा मृदा स्वास्थ्य कार्ड का ऑनलाइन पंजीकरण और इस मिट्टी के नमूने की पूरी जाँच के बाद ही उसे मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्रदान किया जाएगा। तो आइए जानते हैं कैसे करें मृदा स्वास्थ्य कार्ड पंजीकरण ?

मृदा स्वास्थ्य कार्ड पंजीकरण

⏩ मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त करने के लिए, सबसे पहले आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। जाने के लिए यहां क्लिक करें

You साइट पर जाते ही आपको विकल्प के साथ क्लिक करना होगा मृदा स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन और अपना राज्य चुनें।

You जैसे ही आप एक राज्य का चयन करते हैं और जारी रखते हैं, आपके पास एक ऐसा पृष्ठ खुला होगा जैसा की नीचे दिखाया गया।

यह भी पढ़े : सेंचुरियन स्टीव स्मिथ ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की अगुवाई में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को 389/4 के स्कोर पर पवेलियन भेजा

 

Get यहाँ आपको कुछ विकल्प देखने को मिलेंगे जैसे मृदा स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन, नया उपयोग आर पंजीकृत करें, पासवर्ड भूल जाएं

⏩ के लिए मृदा स्वास्थ्य कार्ड नया पंजीकरण , आपको का विकल्प चुनना होगा नया उपयोगकर्ता पंजीकृत करें

You जैसे ही आप सेलेक्ट करेंगे मृदा स्वास्थ्य कार्ड रजिस्टर नया उपयोगकर्ता , ऐसा पेज आपके सामने खुलेगा जो नीचे दिखाया गया है।

 

मिट्टी-स्वास्थ्य कार्ड नई-पंजीकरण-फार्म

Have यहां आपको अपना स्टेट टिक करना होगा और अपना रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना होगा।

⏩ उपयोगकर्ता लॉगिन खाता विवरण

विकल्प के तहत, आपको एक बनाना होगा लॉगिन नाम, पासवर्ड और जो आप करना चाहते हैं उसका चयन करें उपयोगकर्ता भूमिका । जैसे कि मृदा स्वास्थ्य कार्ड, नमूना पंजीकरण, उर्वरक सिफारिश, प्रयोगशाला प्रभारी उत्पन्न करें आदि का चयन करना होगा।

यह भी पढ़े :- Muzaffarpur: पताही में बने COVID केयर हॉस्पिटल का ३ महीने का बिजली बिल आया 40 लाख

Capt दिए गए कैप्चा कोड को डालकर सबमिट करें।

मृदा स्वस्थ्य योजना

ध्यान दें: – पूरी प्रक्रिया अपनाने के बाद, आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड और मृदा नमूना पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन करते हैं।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड।

यदि आपका मृदा स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन पंजीकरण किया गया है और आपके द्वारा दी गई मिट्टी की जाँच की गई है और इसकी रिपोर्ट तैयार है। तो आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते हैं जिसकी प्रक्रिया हम आपको नीचे बता रहे हैं।

Visit सबसे पहले इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। यहाँ क्लिक करें वेबसाइट पर जाने के लिए

➡ वेबसाइट के होम पेज पर आप कम ही जाएँ नीचे स्क्रॉल करने की आवश्यकता है और नीचे स्क्रॉल करें किसानों का कोना आप के तहत अपना मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्रिंट करें एक विकल्प होगा।

आपका मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्रिंट करें , उस विकल्प पर क्लिक करें जो आप एक नया पृष्ठ लाने के लिए आएंगे।

Have सबसे पहले आपको अपना राज्य और फिर चयन करना होगा पर क्लिक करें जारी रखें बटन।

यह भी पढ़े :- बिहार में 713 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, संकरमितो की संख्या 2,34,553 और मृतकों का आंकड़ा 1200 पर पहुंचा

On अब आप यहाँ पर अपने जिला, उप जिला, गाँव साथ में किसान का नाम, ग्राम ग्रिड नंबे आर और नमूने की संख्या दर्ज करना होगा नमूने की संख्या आपको सवाई टेस्ट के दौरान मिट्टी दी जाती है।

These इन सभी जानकारियों को भरने के बाद आपको सर्च बटन पर क्लिक करना है। जैसे ही आप सर्च करेंगे मृदा हेल्थ कार्ड आपके सामने आ जाएगा और आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड डाउनलोड और प्रिंट कर पाएंगे और इसे अपने पास रख पाएंगे।

➡ मृदा स्वास्थ्य कार्ड डायरेक्ट डाउनलोड लिंक

मृदा स्वास्थ्य कार्ड जिलेवार रिपोर्ट

यदि आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत जिला स्तर पर रिपोर्ट की जांच करना चाहते हैं, तो इसके लिए भी विकल्प हैं।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड जिलेवार रिपोर्ट ऑनलाइन भी जांची जा सकती है।

आप क्लिक कर सकते हैं चेक करने के लिए यहां दिए गए लिंक पर मृदा स्वास्थ्य कार्ड जिलेवार रिपोर्ट स्वास्थ्य कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड जिलेवार रिपोर्ट जाँच

On इस लिंक पर क्लिक करें।

क्लिक करने पर आपके सामने एक नया पेज खुलेगा , में जो आप अपना चयन करते हैं राज्य, जिला, कार्यालय का नाम और वृत्त

चुनने के बाद पर क्लिक करें राय बटन, 25 के सामने पूरी जानकारी सामने आ जाएगी।

मृदा स्वस्थ्य योजना

मृदा स्वास्थ्य कार्ड महत्वपूर्ण लिंक।

1 मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन आधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
2 मृदा स्वास्थ्य कार्ड नया पंजीकरण यहाँ क्लिक करें
3 मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन सीधा डाउनलोड लिंक यहाँ क्लिक करें
4 ssoil स्वास्थ्य कार्ड लॉगिन जिलेवार रिपोर्ट की जाँच करें यहाँ क्लिक करें
5 यहां क्लिक करके देखें सॉइल हेल्थ कार्ड स्कीम से संबंधित वीडियो यहाँ क्लिक करें

एक नज़र में योजना।

क्र.सं. योजना बिंदु मुख्य बातें
1। योजना का नाम मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना
2। योजना क्षेत्र मृदा परीक्षण
3। स्कीम लॉन्च की तारीख 17 फरवरी 2015
4। योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा
5। बजट 568 करोड़ है

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना

Use मृदा स्वास्थ्य कार्ड का उपयोग क्या है?

किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए मृदा स्वास्थ्य कार्ड शुरू किया गया है, इसके तहत किसान की जमीन पर मिट्टी का परीक्षण किया जाता है और किसानों को इस बात की जानकारी दी जाती है कि उस मिट्टी में कितना उर्वरक आवश्यक है। मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत, किसानों को बहुत कम कीमत पर अच्छी जानकारी मिलती है और अगर किसान इन चीजों का पालन करते हैं तो उनकी उपज भी काफी बढ़ जाती है।

Started किस राज्य ने सबसे पहले मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना शुरू की?

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना (SHCs) पहली बार पंजाब राज्य द्वारा शुरू की गई थी।

⏩ मृदा स्वास्थ्य कार्ड कैसे प्राप्त करें?

स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त करने के लिए, सबसे पहले आपको अपनी मिट्टी का परीक्षण करवाना होगा और जब परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा किया जाएगा और इसकी रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड की जाएगी। फिर आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं, हमने आपको ऊपर दिए गए लेख में मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया दी है।

और सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए विजिट करे

Get मैं मृदा स्वास्थ्य कार्ड कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त कर सकते हैं ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से। ऑनलाइन के लिए आपको सबसे पहले मृदा परीक्षण पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा और ऑफलाइन माध्यम से आप अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए , हमने आपको ऊपर पंजीकरण की प्रक्रिया दी है। जन धन योजना, जन धन योजना, जन धन योजना, जन धन योजना, जन धन योजना, जनधन योजना, जन धन योजना

⏩ लोग मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना से संबंधित बहुत से प्रश्न पूछते हैं, यहाँ आपके पास पीडीएफ के माध्यम में प्रश्न और उनके उत्तर हैं जिन्हें आप नीचे देख सकते हैं।

ध्यान दें: – यदि आपको सॉइल हेल्थ कार्ड योजना से संबंधित किसी भी अधिक जानकारी की आवश्यकता है, तो आप टिप्पणी के माध्यम से पूछ सकते हैं

click here

मृदा स्वास्थ्य कार्ड का उपयोग क्या है?

 

किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए मृदा स्वास्थ्य कार्ड शुरू किया गया है, इसके तहत किसान की जमीन पर मिट्टी का परीक्षण किया जाता है और किसानों को इस बात की जानकारी दी जाती है कि उस मिट्टी में कितना उर्वरक आवश्यक है। मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत, किसानों को बहुत कम कीमत पर अच्छी जानकारी मिलती है और अगर किसान इन चीजों का पालन करते हैं तो उनकी उपज भी काफी बढ़ जाती है।

किस राज्य ने सबसे पहले मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना शुरू की?

 

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना (SHCs) पहली बार पंजाब राज्य द्वारा शुरू की गई थी।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड कैसे प्राप्त करें?

 

स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त करने के लिए, सबसे पहले आपको अपनी मिट्टी का परीक्षण करवाना होगा और जब परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा किया जाएगा और इसकी रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड की जाएगी। फिर आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं, हमने आपको ऊपर दिए गए लेख में मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया दी है।

मैं मृदा स्वास्थ्य कार्ड कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

 

आप मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त कर सकते हैं ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से। ऑनलाइन के लिए आपको सबसे पहले मृदा परीक्षण पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा और ऑफलाइन माध्यम से आप अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए , हमने आपको ऊपर पंजीकरण की प्रक्रिया दी है।

PM Kisaan मानधन योजना ऑनलाइन आवेदन करके लाभ कैसे उठाये । PMKMY

प्रधानमंत्री किसान योजना ऑनलाइन आवेदन। PMKMY। CSC PMKMY APPLY 

|| pmkmy, manmadhan, pmkmy.gov.in, pm kisan mandhan yojana, pmkisan, pradhan mantri kisan maandhan, pradhanmantri kisan man dhan yhanana, pm ||

 

 

पीएम किसान योजना (पीएमकेएमवाई)

प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) माननीय द्वारा शुरू किया गया है प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जीप्रधानमंत्री किसान धन योजना पंजीकरण CSC का पंजीकरण कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से शुरू किया गया है। ऐसी स्थिति में, लाभार्थी किसान निकटतम सामान्य सेवा केंद्र के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

⇒ मोदी सरकार इस योजना के तहत 3 वर्षों के भीतर 5 करोड़ से अधिक किसानों को कवर करेगी और मन्धन योजना का लाभ देगी। योजना भी इसी के समान है प्रधानमंत्री श्रम योगी जनधन योजना (PMSYM) लेकिन इसमें ऐसे किसान शामिल होंगे जिनके पास असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के बजाय 2 हेक्टेयर से कम भूमि है। केंद्र सरकार ने लाने के लिए 900 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) कार्रवाई में।

प्रधान मंत्री किसान योजना-पीएमकेएमवाई, दोपहर किसान योजना

प्रधानमंत्री किसान योजना योजना पर प्रकाश डाला गया

योजना का प्रधानमंत्री किसान योजना योजना
का शुभारंभ केंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थी देश का हर किसान
फायदा किसानों को to 3000 प्रति माह पेंशन प्रदान करना
योजना का प्रकार पेंशन योजना
आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन ऑफलाइन माध्यम से
राज्य भारत के सभी राज्यों में लागू है
सरकारी वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
प्रधानमंत्री किसान योजना २०२० आवेदन / दोपहर किसान योजना योजना (PMKMY) आवेदन

महाधन योजना के लिए सरकार के साथ करार किया है कॉमन सर्विस सेंटर और इसके लिए एक पोर्टल बनाया गया है, जिस पर किसान कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं। किसानों का ऑनलाइन पंजीकरण प्रधानमंत्री किसान योजना के माध्यम से किया जाएगा कॉमन सर्विस सेंटर(सीएससी से प्रधानमंत्री किसान धन योजना ऑनलाइन पंजीकरण)

प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) के लिए ऑनलाइन आवेदन / ऑनलाइन पंजीकरण

पीएम किसान रोजगार योजना के लिए , किसान निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, जिसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर की अनुमति दी गई है। इस योजना के तहत, किसानों को हर महीने एक निश्चित प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है, जिसके बदले सरकार उन्हें देती है ₹ 3000 प्रति month पेंशन अब वो ६० साल के होते है ।

शाम किसान योजना (PMKMY) जमा राशि किसानों की उम्र पर निर्भर करती है, जिसे हम आपको विस्तार से बताएंगे।

प्रधान मंत्री किसान योजना (पीएमकेएमवाई) में आयु के अनुसार जमा की जाने वाली राशि

आगर आप प्रधानमंत्री किसान मन्थन योजना इसके लिए यदि आप आवेदन करने की सोच रहे हैं 18 से 40 साल के भीतर आवेदन सेवा किसानों की जमा राशि को आपकी उम्र के आधार पर निर्भर कर सकते हैं जिसे हम एक तालिका के माध्यम से समझते हैं।

प्रवेश आयु विशिष्ट मासिक योगदान

प्रवेश आयु (वर्ष)
(ए)
अधिवर्षता आयु
(बी)
सदस्य का मासिक योगदान (रु।)
(सी)
केंद्रीय सरकार का मासिक योगदान (रु।)
(डी)
कुल मासिक योगदान (रु।)
(कुल: C + D)
18 60 55.00 55.00 110.00
19 60 58.00 58.00 116.00
20 60 61.00 61.00 122.00
21 60 64.00 64.00 128.00
22 60 68.00 68.00 136.00
23 60 72.00 72.00 144.00
24 60 76.00 76.00 152.00
25 60 80.00 80.00 160.00
26 60 85.00 85.00 170.00
27 60 90.00 90.00 180.00
28 60 95.00 95.00 190.00
29 60 100.00 100.00 200.00
30 60 105.00 105.00 210.00
31 60 110.00 110.00 220.00
32 60 120.00 120.00 240.00
33 60 130.00 130.00 260.00
34 60 140.00 140.00 280.00
35 60 150.00 150.00 300.00
36 60 160.00 160.00 320.00
37 60 170.00 170.00 340.00
38 60 180.00 180.00 360.00
39 60 190.00 190.00 380.00
40 60 200.00 200.00 400.00

तालिका को देखकर, आप समझ गए होंगे कि इस योजना के तहत जमा की गई राशि आपकी उम्र पर निर्भर करती है और आपको यह भी पता चल जाएगा कि आप इस योजना के तहत जितना निवेश करते हैं, उतना ही निवेश केंद्र सरकार द्वारा भी किया गया था। जाता है ।

यानी, अगर आपने 18 साल की उम्र में, 55 प्रति माह जमा किया है, तो केंद्र सरकार ने भी आपके खाते में account 55 प्रति माह जमा किया है, इसके अनुसार, 18 वर्ष की आयु में, आपने अपने खाते में per 110 प्रति माह जमा किया।

पीएम किसान योजना, pmkisan

प्रधानमंत्री किसान योजना योजना / पात्रता (PMKMY) पात्रता

देश के सभी किसानों को इसके तहत लाभ दिया जाएगा प्रधान मंत्री किसान योजना, लेकिन इसके लिए कुछ पात्रता और मानदंड भी बनाए गए हैं, प्रधानमन्त्री किसान मन धन योजना पात्रता मानदंड

एसआई / नहीं

प्रधानमन्त्री किसान मन धन योजना पात्रता मानदंड

1 किसान से अधिक नहीं होनी चाहिए 2 5 हेक्टेयर एक एकड़ कृषि भूमि
2 किसान के बीच होना चाहिए 18 और 40 साल की उम्र, तभी वे इसके लिए आवेदन कर पाएंगे।
3 इस योजना के आधार पर, किसानों को योगदान देना होगा ₹ 55 ₹ 200 से मासिक और उसी का केंद्र सरकार द्वारा योगदान दिया जाएगा। यानी केंद्र सरकार किसान के लिए समान रूप से योगदान देगी।
4 पीएम किसान कोष का लाभ उठाने वाले किसानों को केवल पीएम किसान कोष से मासिक योगदान में कटौती करने की अनुमति दी जाएगी, उन्हें किसी भी राशि का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
5 जो किसान पीएम किसान के अधीन नहीं हैं, उन्हें नकद में सीएससी के लिए प्रारंभिक योगदान का भुगतान करना होगा और किसान के बैंक खाते से ऑटो डेबिट के माध्यम से मासिक कटौती के लिए सहमत होना होगा।
6 किसान जो से बिल असम, आधार कार्ड के बिना मेघालय और जम्मू और कश्मीर योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं, अन्य राज्यों के किसानों को आधार कार्ड देना अनिवार्य है
7 आयकर का भुगतान करने वाले किसान को इस योजना में शामिल नहीं किया जा सकता है।
8 एमपी , विधायक , मंत्री को भी इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।

पीएम किसान योजना / पीएमकेएमवाई के लिए आवश्यक दस्तावेज

जो किसान प्रधान मंत्री योजना के तहत आवेदन करना चाहता है उसके पास निम्नलिखित दस्तावेज होने चाहिए।

प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) के लिए आवश्यक दस्तावेज

1. आधार कार्ड ( किसी राज्य के लिए नहीं )

2. बैंक खाता पासबुक

3. पासपोर्ट साइज फोटो

4. भूमि दस्तावेज

योजना के तहत एलआईसी की भी महत्वपूर्ण भूमिका है।

LIC (भारतीय जीवन बीमा निगम) के तहत भी महत्वपूर्ण भूमिका है प्रधानमंत्री किसान योजना (PMKMY) जैसा कि सरकार ने फंड मैनेजर का काम सौंपा है प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) के लिए योजना एलआईसी । यानी सरकार की अनुमति से योजना को देखरेख में संचालित किया जाएगा एलआईसी

CSC से PM किसान योजना (PMKMY) पंजीकरण

  1. 1. सबसे पहले लाभार्थी किसान अपने निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर जाएंगे, निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें।
  2. 2. कॉमन सर्विस सेंटर ऑपरेटर को बताएगा कि उन्हें प्रधान मंत्री किसान योजना योजना के लिए खुद को पंजीकृत कराना होगा।
  3. 3. आम सेवा केंद्र संचालक उनसे कुछ दस्तावेज मांगेगा जो हमने आपको ऊपर बताए हैं।
  4. 4. किसान द्वारा पंजीकरण सीएससी ऑपरेटर होगा के तहत किया गया प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY) और किसान को एक रसीद दी जाएगी।
  5. 5. पंजीकरण के समय, सीएससी ऑपरेटर द्वारा आपसे पहली किस्त राशि ली जाएगी।
  6. 6. आपके द्वारा दी गई बैंक खाते की जानकारी से ऑटो डेबिट के माध्यम से प्रधान मंत्री किसान योजना योजना के लिए राशि काटने की अनुमति ली जाएगी।

यदि आप के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं प्रधानमंत्री किसान धन योजना (PMKMY), आप नीचे दिए गए वीडियो देख सकते हैं या यदि आप पंजीकरण की पूरी प्रक्रिया जानना चाहते हैं, तो आप इसके लिए नीचे दिए गए वीडियो भी देख सकते हैं।

 

 

प्रधानमंत्री किसान योजना योजना सी.एस.सी.

Q 1. प्रधानमंत्री किसान योजना क्या है?

प्रधानमंत्री किसान योजना योजना केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लिए शुरू की गई एक पेंशन योजना है जिसके तहत किसान अपना पंजीकरण कराते हैं और सरकार द्वारा the 3000 पेंशन प्रति माह के रूप में प्रदान की जाती है जब वे 60 वर्ष की आयु पार करते हैं।

Q 2. प्रधान मंत्री किसान योजना के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

अगर हम प्रधानमंत्री किसान योजना योजना PMKMY की बात करें, तो इस योजना के तहत देश के प्रत्येक किसान को लाभार्थी माना गया है। अगर आप किसान हैं जो खेती करते हैं, तो आप प्रधानमंत्री किसान योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। pmkisan, pmkisan, pmkisan, pmkisan, pmkisan, pmkisan, pmkisan, pmkisan, CSC PMKMY APPLY, CSC PMKMY APPLY, CSC PMKMY APPLY, CSC PMKMY APPLY, CSC PMKMM

Q 3. किसान मंथन योजना के क्या लाभ हैं?

किसान महाधन योजना के तहत, केंद्र सरकार द्वारा 60 वर्ष की आयु के बाद, आपको प्रति माह। 3000 की आजीवन पेंशन दी जाती है। साथ ही, इस योजना के तहत, मासिक भुगतान केंद्र सरकार द्वारा आपके द्वारा भुगतान की गई राशि के लिए किया जाता है। इस योजना का लाभ आधी लागत पर दोहरा लाभ है।

Q 4. प्रधान मंत्री किसान योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज?

➡️आधार कार्ड

➡️बैंक खाता पासबुक

➡️Passport साइज फोटो

➡️ और दस्तावेज

Q 5. प्रधानमंत्री को किसान योजना के तहत पेंशन कब मिलती है?

प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत पेंशन 60 वर्ष की आयु तक पहुँचने के बाद आपके खाते में ऑटो क्रेडिट के माध्यम से प्राप्त होती है।यहाँ क्लिक करें gif

 

प्रधानमंत्री किसान योजना क्या है?

 

प्रधानमंत्री किसान योजना, केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लिए शुरू की गई एक पेंशन योजना है, जिसके तहत किसान अपना पंजीकरण कराते हैं और सरकार द्वारा उन्हें 60 वर्ष की आयु पार करने पर प्रति माह per 3000 पेंशन के रूप में प्रदान किया जाता है।

प्रधानमंत्री किसान योजना योजना के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

 

अगर हम प्रधानमंत्री किसान योजना योजना PMKMY की बात करें, तो इस योजना के तहत देश के प्रत्येक किसान को लाभार्थी माना गया है। अगर आप किसान हैं जो खेती करते हैं, तो आपप्रधानमंत्री किसान योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

किसान महाधन योजना के क्या लाभ हैं?

 

किसान महाधन योजना के तहत, केंद्र सरकार द्वारा 60 वर्ष की आयु के बाद, आपको प्रति माह। 3000 की आजीवन पेंशन दी जाती है। साथ ही, इस योजना के तहत, मासिक भुगतान केंद्र सरकार द्वारा आपके द्वारा भुगतान की गई राशि के लिए किया जाता है। इस योजना का लाभ आधी लागत पर दोहरा लाभ है।

प्रधान मंत्री किसान योजना योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज?

 

आधार कार्ड
बैंक खाता पासबुक
पासपोर्ट साइज फोटो
जमीन के दस्तावेज

प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत पेंशन कब मिलती है?

 

प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत पेंशन 60 वर्ष की आयु तक पहुँचने के बाद आपके खाते में ऑटो क्रेडिट के माध्यम से प्राप्त होती है।

PM Kisaan: योजना की क़िस्त आने वाली है विस्तार से जाने कैसे लाभ उठाना है

( DBT Agriculture ) PM किसान रजिस्ट्रेशन: ऑनलाइन फॉर्म bihar farmer registration

Bihar farmer registration । बिहार किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन । बिहार सीएम किसान योजना। बिहार सीएम ऑनलाइन स्टेशन।

बिहार किसान रजिस्ट्रेशन की शुरुआत बिहार के सरकार द्वारा राज्य के किसानों को कृषि से संबंधित योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए दिए गए हैं Bihar farmer registration । की प्रक्रिया कृषि विभाग द्वारा DPT agriculture की official website। यहां बिहार किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2020 की प्रक्रिया ऑनलाइन माध्यम से फुल किया जाएगा दोस्तों आज के दिन हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से इस योजना के संबंधित सभी जानकारी को बारे में आज हम बताएंगे जैसे कि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, दस्तावेज, पात्रता इत्यादि को देखने जा रहे हैं

PM Kisaan
PM Kisaan

Bihar Kisan registration 2020
बिहार के जो इच्छुक लाभार्थी बिहार सरकार की तरफ से चलाने वाले किससे संबंधित सरकारी योजनाओं का लाभ उठाना चाहते हैं तो इन्हें DBT Agriculture की official website पर जाकर ऑनलाइन करवाना होगा तभी वह आगे योजनाओं का लाभ उठा पाएंगे अब तक किसान पंजीकरण के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं किया है अर्थात कभी भी किसान बिहार farmer online registration 2020 अपना पंजीकरण करा सकते हैं। bihar farmer online रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए राज्य सरकार द्वारा किसानों को स्वीकृति लाभ प्रदान किया जाएगा। इन योजना के तहत सभी किसान भाइयों लोगों को कृषि से जुड़ी योजनाओं को पात्र बना सकते हैं

बिहार किसान पंजीकरण 2020 @dbt agriculture portal
बिहार के जो किसान DBT के माध्यम से सरकारी योजना में मिलने वाली धनराशि सीधे अपने बैंक खाते में प्राप्त करना चाहते हैं तो तो उन्हें बिहार किसान पंजीकरण 2020 योजना में अपना पंजीकरण कराना आवश्यक है। राज्य के सभी पंजीकरण किसानों को विभाग द्वारा कई लाओ प्रदान किया जाएगा। राज्य के सभी किसानों पर बैठे भी अपने फोन के माध्यम से आसानी से bihar Kisan registration कर सकते हैं और जब भी चाहे तो अपने नजदीकी जन सेवा केंद्र, लोक सेवा केंद्र और महज केंद्र से जाकर पंजीकरण करवाने का अनुमति है

PM Kisaan
PM Kisaan


Objective Bihar farmer registration 2020
Bihar farmer registration 2020 योजना का उदय राज्य के किसानों को हर कदम पर किसी से जुड़ी सभी सरकारी योजनाओं से अलग अवगत कराना और उन्हें लाभ पहुंचाना और बिहार के किसानों को भविष्य को उज्जवल बनाना है और राज्य को उन्नति की ओर ले जाना है और भविष्य में आगे खेती करने का प्रेरित करना है
पंजीकृत किसानों को प्रदान की जाने वाली योजनाओं का लिंग, https://pmmodiyojana.in/bihar-kisanregistration/
इस योजनाओं के अंतर्गत पंजीकरण किसानों एग्रीकल्चर पोर्टल पर विभिन्न प्रकार की योजनाओं का भी लाभ प्रदान किया जा रहा है जिसकी पूरी सूची हमने नीचे दी गई है इस सूची में विस्तार पूर्वक पढे और लाभ उठाएं

  • 👉 प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना
  • 👉 जल जीवन भूमिका
  • 👉 प्रधानमंत्री कृषि जल योजना
  • 👉 डीजल अनुदान योजना👉 कृषि यंत्रीकरण योजना
  • 👉 जैविक खेती अनुदान योजना
  • 👉 बीज अनुदान योजना
  • 👉 कृषि पूर्ण अनुदान योजना
  • 👉 किसी इनपुट रवि योजना
बिहार किसान रजिस्ट्रेशन के सूची में आने वाली जिलों के नाम
औरंगाबाद
  • 👉 औरंगाबाद
  • 👉 जयपुर
  • 👉 बक्सर
  • 👉 गाया
  • 👉 जहानाबाद
  • 👉 मुजफ्फरपुर
  • 👉 पटना
  • 👉 वेस्ट चंपारण

Bihar farmer registration । बिहार किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन । बिहार सीएम किसान योजना। बिहार सीएम ऑनलाइन स्टेशन।

बिहार किसान रजिस्ट्रेशन की शुरुआत बिहार के सरकार द्वारा राज्य के किसानों को कृषि से संबंधित योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए दिए गए हैं Bihar farmer registration । की प्रक्रिया कृषि विभाग द्वारा DPT agriculture की official website। यहां बिहार किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2020
की प्रक्रिया ऑनलाइन माध्यम से फुल किया जाएगा दोस्तों आज के दिन हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से इस योजना के संबंधित सभी जानकारी को बारे में आज हम बताएंगे जैसे कि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, दस्तावेज, पात्रता इत्यादि को देखने जा रहे हैं

Bihar Kisan registration 2020
बिहार के जो इच्छुक लाभार्थी बिहार सरकार की तरफ से चलाने वाले किससे संबंधित सरकारी योजनाओं का लाभ उठाना चाहते हैं तो इन्हें DBT Agriculture की official website पर जाकर ऑनलाइन करवाना होगा तभी वह आगे योजनाओं का लाभ उठा पाएंगे अब तक किसान पंजीकरण के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं किया है अर्थात कभी भी किसान बिहार farmer online registration 2020 अपना पंजीकरण करा सकते हैं। bihar farmer online रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए राज्य सरकार द्वारा किसानों को स्वीकृति लाभ प्रदान किया जाएगा। इन योजना के तहत सभी किसान भाइयों लोगों को कृषि से जुड़ी योजनाओं को पात्र बना सकते हैं

PM Kisaan
CM Nitish Kumar

बिहार किसान पंजीकरण 2020 @dbt agriculture portal
बिहार के जो किसान DBT के माध्यम से सरकारी योजना में मिलने वाली धनराशि सीधे अपने बैंक खाते में प्राप्त करना चाहते हैं तो तो उन्हें बिहार किसान पंजीकरण 2020 योजना में अपना पंजीकरण कराना आवश्यक है। राज्य के सभी पंजीकरण किसानों को विभाग द्वारा कई लाओ प्रदान किया जाएगा। राज्य के सभी किसानों पर बैठे भी अपने फोन के माध्यम से आसानी से bihar Kisan registration कर सकते हैं और जब भी चाहे तो अपने नजदीकी जन सेवा केंद्र, लोक सेवा केंद्र और महज केंद्र से जाकर पंजीकरण करवाने का अनुमति है

PM Kisaan

Objective Bihar farmer registration 2020
Bihar farmer registration 2020 योजना का उदय राज्य के किसानों को हर कदम पर किसी से जुड़ी सभी सरकारी योजनाओं से अलग अवगत कराना और उन्हें लाभ पहुंचाना और बिहार के किसानों को भविष्य को उज्जवल बनाना है और राज्य को उन्नति की ओर ले जाना है और भविष्य में आगे खेती करने का प्रेरित करना है
पंजीकृत किसानों को प्रदान की जाने वाली योजनाओं का लिंग, https://pmmodiyojana.in/bihar-kisan-registration/
इस योजनाओं के अंतर्गत पंजीकरण किसानों एग्रीकल्चर पोर्टल पर विभिन्न प्रकार की योजनाओं का भी लाभ प्रदान किया जा रहा है जिसकी पूरी सूची हमने नीचे दी गई है इस सूची में विस्तार पूर्वक पढे और लाभ उठाएं

  • 👉 प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना
  • 👉 जल जीवन भूमिका
  • 👉 प्रधानमंत्री कृषि जल योजना
  • 👉 डीजल अनुदान योजना
  • 👉 कृषि यंत्रीकरण योजना
  • 👉 जैविक खेती अनुदान योजना
  • 👉 बीज अनुदान योजना
  • 👉 कृषि पूर्ण अनुदान योजना
  • 👉 किसी इनपुट रवि योजना

बिहार किसान रजिस्ट्रेशन के सूची में आने वाली जिलों के नाम
औरंगाबाद

  • 👉 औरंगाबाद
  • 👉 जयपुर
  • 👉 बक्सर
  • 👉 गाया
  • 👉 जहानाबाद
  • 👉 मुजफ्फरपुर
  • 👉 पटना
  • 👉 वेस्ट चंपारण
  • 👉 वैशाली
  • 👉 समस्तीपुर आदि
  • 👉 वैशाली
  • 👉 समस्तीपुर आदि