CBSE परीक्षा 2021: बिहार झारखंड के सीबीएसई 10 वीं और 12 वीं के 5087 परीक्षार्थियों ने संशोधित केंद्र बनाया

CBSE परीक्षा 2021: बिहार झारखंड के सीबीएसई 10 वीं और 12 वीं के 5087 परीक्षार्थियों ने संशोधित केंद्र बनाया

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की दसवीं और 12 वीं के हजारों परीक्षार्थियों ने अपना परीक्षा केंद्र बदल लिया है। ये छात्र अब उन शहर के परीक्षा केंद्र पर परीक्षा देंगे, जहां का विकल्प छात्रों ने सीबीएसई को दिया है। पटना जोन की बात करें तो 5087 परीक्षार्थियों ने परीक्षा केंद्र बदल लिया है। इसमें बिहार के चार हजार और झारखंड के 1087 परीक्षार्थी शामिल हैं। परीक्षा केंद्र का परिवर्तन 12 वीं से अधिक 10 वीं के छात्रों ने किया है। पटना क्षेत्रीय कार्यालय की मानें तो दसवीं के तीन हजार 654 छात्रों ने अपना केंद्र बदलने के लिए आवेदन दिया था।

ज्ञात हो कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सीबीएसई द्वारा केंद्र बदलने की सुविधा छात्रों को दी गई थी। इसमें उन छात्रों को परीक्षा केंद्र बदलने का विकल्प था जो कोरोना के कारण दूसरे शहर में फंसे थे और वे अब उसी शहर से परीक्षा देना चाहते हैं। यहां तक ​​कि ये छात्र का स्कूल कहीं पर भी हो। इसमें बोर्ड ने शहर बदलने का विकल्प दिया था। ऐसे में पटना जोन के सैकड़ो छात्रों ने केंद्र बदल दिया है। बोर्ड की मानें तो बहुत ऐसे छात्र हैं जो हॉस्टल में रह कर पढ़ाई कर रहे थे। लेकिन कोरोना के कारण वे अपने गृह जिले में चले गए थे। अब छात्र अपने गृह जिले के किसी केंद्र पर बोर्ड परीक्षा में शामिल होंगे।

प्रवेश पत्र से केंद्र की जानकारी बोर्ड की मानें तो 20 अप्रैल के बाद प्रवेश पत्र जारी किया जाएगा। छात्रों को प्रवेश पत्र से उनके केंद्र की जानकारी मिलगी। अभी प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए रोल नंबर जारी किया गया है। पाठ्यक्रम परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र 20 अप्रैल के बाद जारी होगा। स्कूल की वेबसाइट से प्रवेश पत्र डाउनलोड किया जाएगा। हालांकि कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस परिवर्तन से परीक्षार्थियों को परीक्षा देने में सुविधा होगी।

परीक्षार्थियों को सुविधा मिले, इसके लिए केंद्र बदलने का अवसर दिया गया था। काफी संख्या में छात्रों ने इसके लिए आवेदन दिया था। जिन छात्रों ने आवेदन दिया था, उनका परीक्षा केंद्र बदल दिया गया है।
-संयम भारद्वाज, परीक्षा नियंत्रक सी.एस.ई.

रिजल्ट अपने ही स्कूल से मिलेगा
बोर्ड की मानें तो जिन छात्रों ने परीक्षा केंद्र बदल लिया है। वह परीक्षा तो दूसरे शहर से करेगी। लेकिन उनका रिजल्ट उनके ही स्कूल से मिलेगा। ऐसे छात्र का रिजल्ट तैयार होने के बाद उससे संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को भेज दिया जाएगा। इसके बाद क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा स्कूल से संपर्क कर छात्र के इंटरर्नल असेसमेंट के साथ उनका रिजल्ट बनाया जाएगा।

परीक्षा छूटने से बच जाएगा छात्र

बोर्ड द्वारा परीक्षा केंद्र में परिवर्तन का विकल्प देने से बहुत सारे छात्रों की परीक्षा छूट नहीं पाई जाती है, क्योंकि ये छात्र अब आसानी से गृह जिले के एक केंद्र में परीक्षा देते हैं।
दे दो।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *