बिहार में कोरोना केस: एनएमसीएच में ऑक्सीजन की कमी, अधीक्षक ने पद छोड़ने को लिखा पत्र, कहा- कोई घटना घटी तो सारी जवाबदेही मेरे ऊपर आ जाएगी

बिहार में कोरोना केस: एनएमसीएच में ऑक्सीजन की कमी, अधीक्षक ने पद छोड़ने को लिखा पत्र, कहा- कोई घटना घटी तो सारी जवाबदेही मेरे ऊपर आ जाएगी

एनएमसीएच में ऑक्सीजन की कमी हो गयी है। इससे कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के बीच हड़कंप मचा है। शनिवार की शाम कोएचएच में ऑक्सीजन की कमी के सवाल पर मरीजों ने थोड़ी देर के लिए हंगामा भी मचाया। इधर समस्या को देखते हुए अस्पताल के अधीक्षक डॉ। विनोद कुमार सिंह ने विभागीय प्रधान सचिव को पत्र भेज कर अधीक्षक पद से मुक्त करने की बात कही है।

अधिकारियों के हस्तक्षेप से नाराज अधीक्षक का कहना है कि इस अस्पताल के ऑक्सीजन स्टॉक को दूसरी जगह भेजा जा रहा है। इससे अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होने लगी है, जिससे कभी भी घटना घट सकती है। ऐसे में सा जवाबदेही उनके ऊपर आ जाएगी। अस्पताल में दो दिनों से ऑक्सीजन की कमी होने लगी है। कोरोनात्मक रोगियों की संख्या लगातार बढ़ने से इस अस्पताल में मरीजों के आने का सिलसिला लगातार जारी है।

मरीजों की संख्या को देखते हुए यहां 400 से 450 ऑक्सीजन सिलेंडर की आवश्यकता है, जबकि आपूर्ति एक चौथाई ही हो पा रही है। ऐसे में कोविड मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराने में डॉक्टरों को काफी परेशानी हो रही है। मरीज के अनुपात में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति सुनिश्चित नहीं होने की स्थिति में सप्लाई चेन इंफ होने होने का खतरा बना है।

अतिरिक्त ऑक्सीजन होने पर पट को कोपलई करें
पटना में संचालित प्राथमिक अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए शनिवार को प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने आसपास के कई जिलों के डीएम से बात की और अतिरिक्त ऑक्सीजन सिलेंडर को पटना में सप्लाई करने को कहा। आयुक्त के निर्देश के बाद नालंदा से 100 सिलेंडर शनिवार को पटना के लिए सप्लाई की गई।

आकृत ने नालंदा, वैशाली और मुजफ्फरपुर के डीएम से कहा कि यदि उनके जिले में ऑक्सीजन सिलेंडर अधिशेष है तो पटना को अपलाई कर सकते हैं। आयुक्त ने पटना प्रमंडल के अन्य जिले जैसे रोहतास, कैमूर, बक्सर और भोजपुर के डीएम को भी निर्देश दिया है कि यदि उनके यहां अधिशेष ऑक्सीजन सिलेंडर है तो एजेंसियों को निर्देश देकर पटना के लिए सप्लाई करें। शनिवार को प्रमंडल के सभी डीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में आयुक्त ने कहा कि सरकारी और प्राथमिक अस्पतालों में 24 घंटे ऑक्सीजन की सप्लाई सुनिश्चित करें। उत्पादन इकाई में मजिस्ट्रेट तैनात करने और वितरण की निगरानी का निर्देश दिया गया है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *