नीतीश सरकार ने की मोदी की घोषणा, फिर भी 35 पैसे तक बिजली की बर्बादी, किसानों को 70 पैसे यूनिट देना होगा बिल

नीतीश सरकार ने की मोदी की घोषणा, फिर भी 35 पैसे तक बिजली की बर्बादी, किसानों को 70 पैसे यूनिट देना होगा बिल

बिहार के डेढ़ करोड़ से अधिक बिजली उपभोक्ताओं को बढ़ी हुई दर से बिजली बिल चुकाना होगा। बिहार विद्युत विनियामक आयोग की ओर से दिए गए निर्णय को सरकार ने बरकरार रखा है। बिजली कंपनी के रूप में अनुदान वित्तीय वर्ष 2020-21 में दे रही थी, साथ ही वित्तीय वर्ष 2021-22 में भी होगा। उपभोक्ताओं को अनुदान देने के लिए राज्य सरकार 6043 करोड़ रुपये खर्च करेगी।

मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की घोषणा में हुई राज्य काउंटर की बैठक में उपभोक्ताओं को मिलने वाले अनुदान पर मुहर लग गई। सरकार के इस निर्णय के बाद उपभोक्ताओं को एक प्रति से कम यानी मात्र 0.63 प्रति ही बिजली बिल में अतिरिक्त खर्च करना होगा। सभी तरह की श्रेणियों को मिला तो उपभोक्ताओं को पांच से 35 पैसे तक प्रति यूनिट अधिक की दर से बिजली बिल का भुगतान करना होगा। हालांकि पहले की तरह ही इस बार भी सरकार ने गांव, गरीबों और किसानों पर मेहरबानी दिखाई है। सबसे अधिक अनुदान किसानों और गरीबों को ही दिया जा रहा है।

किसानों को 70 पैसे यूनिट देना होगा
विनियनक कमीशन ने किसानों को 5.55 रुपये प्रति यूनिट बिजली देने पर मुहर लगाई थी। सरकार ने किसानों को 4.85 रुपये प्रति यूनिट अनुदान देने का निर्णय लिया है। इसके बाद किसानों को केवल 70 पैसे प्रति यूनिट ही बिजली बिल देना होगा।

31 मार्च तक किसान 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से खेती में बिजली का उपयोग कर रहे थे। गरीबों के कनेक्शन कुटीर ज्योति में विनियामक आयोग ने 6.10 रुपए प्रति यूनिट का फैसला दिया। सरकार 3.98 रुपए प्रति यूनिट अनुदान करेगी और गरीबों को 2.12 रुपए प्रति यूनिट केवल बिजली बिल देना होगा। ये दोनों श्रेणी के 59 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को अनुदान देने के लिए में सरकार 1600 करोड़ से अधिक खर्च करेगी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *