नवरूना कांड: 7 साल की छानबीन के बाद सीबीआई नहीं हासिल कर सकी सबूत, जांच बंद, फाइनल रिपोर्ट दाखिल

नवरूना कांड: 7 साल की छानबीन के बाद सीबीआई नहीं हासिल कर सकी सबूत, जांच बंद, फाइनल रिपोर्ट दाखिल

मुजफ्फरपुर के बहुचर्चित नवरूना कांड की सात साल जांच करने के बाद अब सीबीआई ने भी खुलासे से अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। देश की शीर्ष जांच एजेंसी भी इस कांड का सुराग नहीं निकाल सकी है। सीबीआई ने 13 नवंबर को सबूत व तथ्य का अभाव बताते हुए मुजफ्फरपुर के विशेष कोर्ट में फाइनल रिपोर्ट दाखिल कर दी है। सीबीआई की फाइनल रिपोर्ट से इस केस का रहस्य और अधिक गहरा गया है। दर्जनों वैज्ञानिक जांच के बावजूद सीबीआई किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी। कांड के जांच अधिकारी सह डीएसपी अजय कुमार ने 40 पेज की फाइनल रिपोर्ट दाखिल की है। रिपोर्ट के साथ ही जांच बंद हो गई है।

यह भी पढ़ें-17 वीं बिहार विधानसभा का पांच दिवसीय पहला सत्र आज से, पांच भाषाओं में शपथ ले सकता है सदस्य

रिपोर्ट में जांच के 86 बिंदुओं को उल्लेखित किया गया है। नवरूना के घर के पास से नाले से बरामद कंकाल को लेकर भी सीबीआई खुलासे में फेल रही। कुल 66 लोगों की गवाही भी काम नहीं आ सकी। नवरूना कांड को लेकर सूचना देने पर 10 लाख रुपये की इनाम के ऐलान से भी हाथ ठोस सबूत नहीं मिल सका। नगर थाने के तत्कालीन थानेदार जितेंद्र प्रसाद, वार्ड पार्षद राकेश कुमार सिन्हा पप्पू, मोतीपुर निवासी विमल अग्रवाल समेत आधा दर्जन संदिग्धों की ब्रेन मैपिंग, लाइव डिटेक्टर, नार्को टेस्ट व बयान आदि से भी कोई साक्ष्य हासिल नहीं हो सका। इसके अलावा डीएनए व बोन टेस्ट भी बेनतीजा रहा। जांच के दौरान सीबीआई की ओर से गिरफ्तार किए गए आधा दर्जन संदिग्धों पर भी आरोप पुष्ट नहीं हो सके। अब चार दिसंबर को विशेष कोर्ट में सुनवाई के लिए तिथि तय है। इस दिन सीबीआई की रिपोर्ट पर सुनवाई हो सकती है।

पुलिस समेत तीन जांच एजेंसी विफल
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 14 फरवरी 2014 को सीबीआई ने कांड में एफआईआर दर्ज कर

जांच शुरू की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कई बार जांच के लिए मोहलत दी। जिला पुलिस के बाद मामले की जांच का जिम्मा सीआईडी को भी सौंपा गया था। तीनों एजेंसी कांड के खुलासे में फेल रही।

क्या है नवरुना कांड
17 सितंबर 2012 की रात जवाहरलाल रोड निवासी अतुल्य चक्रवर्ती की छोटी बेटी नवरूना रहस्यमय तरीके से कमरे से गायब हो गई। इसे लेकर पिता ने 18 सितंबर 2012 को नगर थाने में अपहरण का केस कराया। इसके बाद 14 फरवरी 2014 से पहले पुलिस और सीआईडी ने इसकी जांच की। इसके बाद सीबीआई जांच शुरू की। नवरुना के घर से सटे एक नाला से कंकाल भी मिला था। जिसे तत्काल नवरूना का कंकाल बताया गया था। इस मामले में सीबीआई ने 15 संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। साथ ही 250 से अधिक को नोटिस देकर कैंप कार्यालय व क्षेत्रीय कार्यालय में बुलाकर मामले में तफ्तीश की। सुराग नहीं मिलने के बाद 10 लाख रुपये का इनाम की भी घोषणा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *